Milky Mist

Tuesday, 16 April 2024

ख़ुद आईएएस अफ़सर नहीं बन पाए तो दूसरों के सपने सच करने लगे

16-Apr-2024 By पी.सी. विनोज कुमार
कोयंबटूर

Posted 03 May 2018

असफलता को किस तरह अवसर में तब्‍दील किया जा सकता है, यह पी. कानगराज से सीखा जा सकता है.

वो दो बार सिविल सर्विस परीक्षा में इंटरव्यू स्टेज तक पहुंचे, लेकिन आगे नहीं बढ़ पाए. दोबारा शुरू करने के लिहाज से उन्होंने फ़ैसला किया कि वो ऐसेयुवाओं को उनका सपना पूरा करने में मदद करेंगे.

वो ख़ुद को मुफ़्त आईएएस एग्ज़ाम कोच कह कर बुलाते हैं.

कानगराज कहते हैं, मैंने तय किया कि सिविल सर्विस की तैयारी के दौरान जो जानकारी हासिल की है, उसे युवाओं के फ़ायदे के लिए इस्तेमाल करूंगा..

कोयंबटूर में प्रोफ़ेसर कानगराज की आईएएस कोचिंग क्‍लास में क़रीब 400 छात्र-छात्राएं पढ़ते हैं. (सभी फ़ोटो : एच.के. राजाशेकर)


कानगराज कोयंबटूर के गवर्नमेंट आर्ट्स कॉलेज में पॉलिटिकल साइंस के एसोसिएट प्रोफ़ेसर हैं.

नौकरी करते हुए उन्होंने 70 से ज़्यादा युवाओं को सिविल सर्विसेज़ की परीक्षा पास करने में मदद की है. इनमें से 17 आईएएस अफ़सर बने, जबकि 27 आईपीएस के लिए चुने गए.

कानगराज आईएएस के अभ्‍यर्थियों को जनरल स्टडीज़ और पॉलिटिकल साइंस पढ़ाते हैं.

वो कहते हैं, मैं पढ़ाने के बदले कोई फ़ीस नहीं लेता. मैं बच्चों से कहता हूँ कि मैं उनके पास कभी नहीं आऊंगा कि मैंने तुम्हें पढ़ाया है. आप मेरे लिए यह काम करो. अगर आप कुछ करना ही चाहते हैं तो समाज के लिए करिए.

वर्तमान में उनकी क्लास में क़रीब 400 बच्चे पढ़ने आते हैं. सप्ताह के दिनों में वो कॉलेज में पढ़ाने के बाद शाम चार से साढ़े छह बजे तक क्‍लास लेते हैं. रविवार के दिन उनकी कक्षा भरी रहती है और वो बिना ब्रेक लिए सुबह 10 से दोपहर 2:30 बजे तक पढ़ाते हैं.

47 साल के कानगराज कहते हैं, पिछले आठ सालों में मैं सिर्फ़ आठ रविवार को क्लास नहीं ले पाया. वो भी इसलिए क्‍योंकि मेरे नज़दीकी रिश्तेदारों की मौत हो गई थी.

देश के दूसरे हिस्सों में रहने वाले बच्चों के लिए कानगराज फ़ोन और स्काइप पर क्‍लास लेते हैं.

प्रिलिमनरी और मेन परीक्षा के अभ्‍यर्थियों के लिए वो सेवारत व सेवानिवृत्‍त ब्यूरोक्रैट्स की सहायता से मॉक इंटरव्‍यू भी आयोजित कराते हैं.

इसके पीछे विचार यह है कि अगर उन्हें भी सही रास्ता दिखाने वाला कोई मिला होता तो वो जीवन के सफ़र में कहीं और निकल गए होते. इसलिए उनकी कोशिश होती है कि कोई भी योग्‍य उम्‍मीदवार प्रशिक्षण के अभाव में अफ़सर बनने से न चूक जाए.

कानगराज की आईएएस कोचिंग क्‍लासेज़ में पढ़ने के लिए कोई फ़ीस नहीं ली जाती है.


वो कई अख़बारों के लिए लिखते भी हैं. उन्होंने स्मार्ट स्ट्रैटज़ीस फ़ॉर सक्सेस इन आईएएस इंटरव्‍यू किताब भी लिखी है.

कानगराज तमिलनाडु के तंजावूर जिले के कुरुवादिपट्टी गांव के रहने वाले हैं. उनके पिता किसान थे. उन्होंने कक्षा 10 तक तमिल मीडियम स्कूल में पढ़ाई की.

चेन्नई के लोयोला कॉलेज से इंग्लिश लिटरेचर में ग्रैजुएशन के बाद वो दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) आ गए, जहां पॉलिटिकल साइंस में एमए, एमफ़िल और पीएचडी की.

कानगराज कहते हैं, इन दो संस्थाओं ने मुझे ज़िंदगी के सभी अच्छे मूल्य सिखाए.

साल 2003 में जेएनयू के कुछ छात्रों ने उनसे आईएएस परीक्षा की तैयारी को लेकर मदद मांगी.

कोयंबटूर में हायर स्‍टडीज़ सेंटर के सामने कानगराज.


इस तरह आईएएस कोचिंग क्लास की शुरुआत उनके घर से ही हुई. जब साल 2008 में उनके पढ़ाए दो छात्र आईपीएस के लिए चुन लिए गए तो मीडिया में उनका नाम आने लगा.

कानगराज बताते हैं, अजीता बेगम दक्षिण भारत से आईपीएस के लिए चुनी गई पहली मुस्लिम लड़की थीं. ए. अरुल कुमार को हिमाचल प्रदेश कैडर दिया गया. वो आईएएस के लिए चुने गए थे, लेकिन उन्होंने आईपीएस चुना. वह उनकी ख्‍़वाबों की नौकरी थी.

मीडिया में नाम आने के बाद ज़्यादा बच्चे उनके पास आने लगे. अब घर में जगह नहीं बचती थी.

तब उन्होंने कोचिंग अपने कॉलेज में स्थानांतरित करवा ली. साथ ही वो आईएएस, आईपीएस और आईआरएस अधिकारियों को बच्चों को प्रेरित करने के लिए बुलाने लगे.

ऐसी ही एक क्‍लास के दौरान कोयंबटूर के तत्‍कालीन कमिश्नर अंशुल मिश्रा कानगराज से इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने कानगराज से कॉर्पोरेशन स्कूलों के बच्चों के लिए करियर गाइडेंस और उच्‍च शिक्षा जागरूकता कार्यक्रम चलाने का अनुरोध किया.

रविवार को कानगराज सुबह 10 बजे से दोपहर 2:30 बजे तक बिना ब्रेक लिए क्‍लास लेते हैं.

बाद में कॉर्पोरेशन ने ऐसे कार्यक्रमों के लिए उच्च शिक्षा केंद्र की स्थापना की. कानगराज को इस केंद्र में आईएएस कोचिंग क्लास चलाने की अनुमति भी दी गई.

क़रीब चार साल पहले उन्होंने एक पहल के तहत राज्य के आदिवासी और ग्रामीण बच्चों के लिए एम्पावरिंग फ़ॉर फ़्यूचर नामक कार्यक्रम शुरू किया.

आईएएस की कोचिंग के लिए आने वाले विद्यार्थी इस पहल में उनकी मदद करते हैं. 

आज कई अरुल कुमार और अजीता बेगम कानगराज की कोचिंग में एक सपना लेकर आते हैं.


दूसरी कोशिश में आईएएस की परीक्षा पास करने वाली अजीता बेगम आज केरल के कोल्लम में पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) पद पर हैं. वो साल 2007 में आईएएस के लिए चुनी गई थीं.

अजीता कोयंबटूर की रहने वाली हैं और वो पहली बार कानगराज से साल 2005 में कोयंबटूर के गवर्नमेंट आर्ट्स कॉलेज में मिली थीं.

उन्होंने बीकॉम की पढ़ाई ख़त्म की थी और वो एमबीए करना चाहती थीं, जब उनके पिता के दोस्त ने उन्हें सिविल सर्विसेज़ का सुझाव दिया और कानगराज के साथ मुलाकात तय कर दी.

वो बताती हैं, मुझे सिविल सर्विसेज़ में बारे में बिल्‍कुल भी जानकारी नहीं थी. कानगराज सर हमारे साथ ढाई घंटे बिताए और जो लोग आईएएस अफ़सर बन गए, उनके बारे में बताया.

उन्होंने ऐसे समझाया कि सब कुछ बहुत आसान है. इससे मेरा आत्मविश्वास बढ़ा.

केरल में अजीता अपने काम से धूम मचा रही हैं. दो साल पहले जब वो तिरूअनंतपुरम में डीसीपी थीं, तब उन्होंने छेड़छाड़ से निपटने के लिए फ़ेम पैट्रोल नामक पहल शुरू की. इसे अब केरल के दूसरे हिस्सों में भी लागू किया जा रहा है.

कानगराज को उम्मीद है आईएएस बनना चाह रहे कई दूसरे लोग भी अपना सपना पूरा कर पाएंगे. वो बताते हैं कि उन्हें अपने काम में पत्नी वेन्नीला और दो बच्चों का पूरा सहयोग मिलता है.


 

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

  • how Chayaa Nanjappa created nectar fresh

    मधुमक्खी की सीख बनी बिज़नेस मंत्र

    छाया नांजप्पा को एक होटल में काम करते हुए मीठा सा आइडिया आया. उसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. आज उनकी कंपनी नेक्टर फ्रेश का शहद और जैम बड़े-बड़े होटलों में उपलब्ध है. प्रीति नागराज की रिपोर्ट.
  • From Rs 16,000 investment he built Rs 18 crore turnover company

    प्रेरणादायी उद्ममी

    सुमन हलदर का एक ही सपना था ख़ुद की कंपनी शुरू करना. मध्यमवर्गीय परिवार में जन्म होने के बावजूद उन्होंने अच्छी पढ़ाई की और शुरुआती दिनों में नौकरी करने के बाद ख़ुद की कंपनी शुरू की. आज बेंगलुरु के साथ ही कोलकाता, रूस में उनकी कंपनी के ऑफिस हैं और जल्द ही अमेरिका, यूरोप में भी वो कंपनी की ब्रांच खोलने की योजना बना रहे हैं.
  • Johny Hot Dog story

    जॉनी का जायकेदार हॉट डॉग

    इंदौर के विजय सिंह राठौड़ ने करीब 40 साल पहले महज 500 रुपए से हॉट डॉग बेचने का आउटलेट शुरू किया था. आज मशहूर 56 दुकान स्ट्रीट में उनके आउटलेट से रोज 4000 हॉट डॉग की बिक्री होती है. इस सफलता के पीछे उनकी फिलोसॉफी की अहम भूमिका है. वे कहते हैं, ‘‘आप जो खाना खिला रहे हैं, उसकी शुद्धता बहुत महत्वपूर्ण है. आपको वही खाना परोसना चाहिए, जो आप खुद खा सकते हैं.’’
  • Selling used cars he became rich

    यूज़्ड कारों के जादूगर

    जिस उम्र में आप और हम करियर बनाने के बारे में सोच रहे होते हैं, जतिन आहूजा ने पुरानी कार को नया बनाया और बेचकर लाखों रुपए कमाए. 32 साल की उम्र में जतिन 250 करोड़ रुपए की कंपनी के मालिक हैं. नई दिल्ली से सोफ़िया दानिश खान की रिपोर्ट.
  • Match fixing story

    जोड़ी जमाने वाली जोड़ीदार

    देश में मैरिज ब्यूरो के साथ आने वाली समस्याओं को देखते हुए दिल्ली की दो सहेलियों मिशी मेहता सूद और तान्या मल्होत्रा सोंधी ने व्यक्तिगत मैट्रिमोनियल वेबसाइट मैचमी लॉन्च की. लोगों ने इसे हाथोहाथ लिया. वे अब तक करीब 100 शादियां करवा चुकी हैं. कंपनी का टर्नओवर पांच साल में 1 करोड़ रुपए तक पहुंच गया है. बता रही हैं सोफिया दानिश खान