Milky Mist

Sunday, 21 July 2024

एमबीए पास बहू ने गांव के पारिवारिक कारोबार को ब्रांड बनाया, 7 साल में टर्नओवर 10 लाख रुपए से 6 करोड़ रुपए पहुंचाया

21-Jul-2024 By उषा प्रसाद
तिरुपुर

Posted 25 Aug 2021

घर वह जगह है जहां सिंधु अरुण का दिल बसता है. सिंधु अरुण ने यूके के वारविक बिजनेस स्कूल से एमबीए में ग्रैजुएशन किया. फिर तमिलनाडु के तिरुपुर जिले के एक गांव में कोल्ड-प्रेस्ड ऑयल ब्रांड बनाया. 2013 में 10 लाख रुपए मामूली टर्नओवर वाले पारिवारिक कारोबार को साल 2020-21 में 6 करोड़ रुपए सालाना टर्नओवर तक पहुंचा दिया.

सिंधु ने अपने पति अरुण के परिवार, विशेषकर अपने ससुर के छोटे भाई वी गोपालकृष्णन का भरोसा जीता, जो बिना नाम या ब्रांड के परिवार का खोपरा कारोबार चला रहे थे. सिंधु ने नए कर्मचारी रखे, विविध प्रोडक्ट जोड़े और कुछ ही साल में टर्नओवर बढ़ा दिया.

सिंधु अरुण ने 2017 में कोल्ड-प्रेस्ड ऑयल ब्रांड प्रेसो (PRESSO) लॉन्च किया. वे गांव के पारिवारिक कारोबार को नए स्तर पर ले गईं. (फोटो : विशेष व्यवस्था से)

आज, कारोबार एग्रीप्रो इंडस्ट्रीज के रूप में विकसित हो चुका है. यह एक पार्टनरशिप फर्म है, जो प्रेसो (PRESSO) ब्रांड के तहत खोपरा, नारियल, नारियल के गोले, भूसी और तीन प्रकार के कोल्ड प्रेस्ड तेल (नारियल, मूंगफली और तिल) बेचती है.

37 वर्षीय सिंधु कोयंबटूर जिले के पोलाची के पास एक गांव के मध्यम वर्गीय परिवार से हैं. उनके माता-पिता सरकारी स्कूल के शिक्षक थे.

हाई स्कूल की छात्रा के रूप में युवा सिंधु पेप्सिको की पूर्व अध्यक्ष और सीईओ इंदिरा नूयी को अपना आदर्श मानती थीं.

सिंधु ने हमेशा उद्यमी बनने का सपना देखा. वे कहती हैं, “मेरे कमरे में हमेशा इंदिरा नूयी की तस्वीर होती थी. वे आज भी मेरी दूरस्थ गुरु की तरह हैं.”

सिंधु ने 12वीं कक्षा तक तमिल माध्यम से पढ़ाई की. फिर पोलाची के महालिंगम इंजीनियरिंग कॉलेज से इन्फॉरमेशन टेक्नोलॉजी में बीटेक किया.

सिंधु की शादी अरुण से हुई. अरुण का परिवार खोपरा कारोबार में था. वे अपने गांव मोदक्कुपट्टी और उसके आसपास के किसानों से नारियल खरीदते थे और मजदूरों की मदद से खोपरा बनाते थे. वह खोपरा स्थानीय बाजार में बेचा जाता था.

सिंधु के साथ करीब 15 लोग काम करते हैं. इनमें ज्यादातर महिलाएं हैं.  

अरुण का आठ लोगों का संयुक्त परिवार था. अरुण के पिता वी. रामानुजम और मां आर राजवेनी ने जमीन की देखभाल की. जबकि गोपालकृष्णन ने पारिवारिक कारोबार संभाला.

सास ने सिंधु को कारोबार से जुड़ने के लिए प्रोत्साहित किया. उन्होंने सिंधु की छह माह की बेटी और घर के काम संभालकर उनका समर्थन किया.

सिंधु और अरुण ने कारोबार को अगले स्तर पर ले जाने का फैसला किया. वे जिस खोपरा और नारियल के कारोबार में थे, उसका कोई पंजीकृत नाम नहीं था. यह विशुद्ध रूप से उस क्षेत्र में अरुण के परिवार की प्रतिष्ठा और सद्भावना के आधार पर चलता है.

सबसे पहले सिंधु ने 2013 में ससुराल वालों को कंपनी का नाम एवरग्रीन एंटरप्राइजेज रखने के लिए मनाया. वे कहती हैं, “हमारे पास सिर्फ काम करने वाले मजदूर थे. कोई प्रशासनिक कर्मचारी नहीं था. मैं चाहती थी कि मेरा परिवार बड़ा सोचे.” सिंधु ने शुरुआत में एक सुपरवाइजर और एक अकाउंटेंट की नियुक्ति की.

सिंधु की मुख्य भूमिका भर्ती किए नए लोगों को प्रशिक्षित करना और अकाउंट्स संभालना था. वे आगे कहती हैं, “मुझे "द मैजिक ऑफ थिंकिंग बिग' किताब से प्रेरणा (पारिवारिक कारोबार को बदलने की) मिली.”

इसके बाद सिंधु ने अग्रणी एफएमसीजी ब्रांड मैरिको के साथ दोबारा संपर्क स्थापित किया. इस कंपनी को परिवार 2002 से खोपरा की आपूर्ति कर रहा था. अरुण ने 2012 में शादी से लगभग पांच साल पहले जब लोहे के स्क्रैप कारोबार में प्रवेश किया, तो उन्होंने मैरिको को आपूर्ति करना बंद कर दी थी.

सिंधु कहती हैं, “मुझे लगा कि अगर हम अपने कारोबार को बढ़ाना चाहते हैं तो उनके साथ सहयोग करने से हमें बहुत कुछ सीखने में मदद मिलेगी.”

वारविक बिजनेस स्कूल से एमबीए करने के बाद सिंधु ने कुछ साल लंदन में काम किया. इसके बाद 2009 में भारत लौट आईं.

“हमने 2014 में मैरिको के साथ अपना कारोबार फिर शुरू किया. तब तक मैरिको ने एक नई योजना के तहत नारियल खरीदना शुरू कर दिया था और हम खोपरा की बजाय उन्हें नारियल भेजने लगे.”

2017 में, सिंधु और अरुण ने एग्रीप्रो इंडस्ट्रीज को पार्टनरशिप फर्म के रूप में पंजीकृत कराया. इसके बाद प्रेसो ब्रांड के तहत कोल्ड-प्रेस्ड तेल लॉन्च किया.

उन्होंने अपने शुभचिंतकों से 12 लाख रुपए उधार लिए और सिंधु के गहने गिरवी रखकर 8 लाख रुपए जुटाए, ताकि मोदक्कुपट्टी में कोल्ड-प्रेस्ड तेलों के लिए उत्पादन सुविधा स्थापित की जा सके.

वे स्थानीय किसानों से नारियल और मूंगफली खरीदते हैं. वेदारण्यम में एक जैविक किसान से तिल खरीदते हैं. तेल विभिन्न ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म, उनकी वेबसाइट और आउटलेट पर बेचा जाता है.

सिंधु कहती हैं, “हमारी पहुंच तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, भोपाल और हरियाणा के बाजार तक है. हम कतर को भी निर्यात करते हैं. मलेशिया और यूके के खरीदारों से बातचीत चल रही है.”

वित्त वर्ष 20-21 के दौरान कंपनी के कुल 6 करोड़ रुपए के टर्नओवर में ब्रांड प्रेसो का योगदान 27 लाख रुपए रहा.

सिंधु ने जीवन में अपने लिए जो भी लक्ष्य निर्धारित किए थे, उन सभी को हासिल किया. छात्रा के रूप में वे चाहती थीं कि उच्च शिक्षा विदेश में शीर्ष रैंकिंग विश्वविद्यालयों में से एक में करें और वे 2006 में 23 साल की उम्र में वारविक बिजनेस स्कूल गईं.

उन्होंने वहां इन्फॉरमेशन सिस्टम्स एंड मैनेजमेंट में एमबीए किया. कोर्स के दौरान एक साल के लिए शाम 6 से रात 11.30 बजे तक कॉलेज के समय के बाद एक रेस्तरां में वैट्रस के रूप में भी काम किया.
अपने पति और बिजनेस पार्टनर अरुण तथा बेटी लाया के साथ सिंधु.

सिंधु कहती हैं, “भारत में ग्रामीण पृष्ठभूमि से होना मेरे लिए एक अलग अनुभव रहा. मैं आधी रात को काम से अकेले ही लौट आती थी. मुझे लगता है कि चुनौतियों का सामना करने का साहस मुझे अपनी मां से मिला, जो एक साहसी महिला थीं.”

बाद में, सिंधु ने लंदन में एक्सा लाइफ इंश्योरेंस में सेल्स एग्जीक्यूटिव के रूप में और फिर एक सुपरमार्केट में काम किया. वहां उन्होंने सेल्स एग्जीक्यूटिव के रूप में शुरुआत की थी और असिस्टेंट मैनेजर बनीं.

2009 में वे भारत लौट आई और अपने भाई के साथ एक ई-कॉमर्स पोर्टल शुरू किया. पोर्टल सीधे आपूर्ति यानी ड्रॉपशीपिंग मॉडल पर काम करता था. इसके जरिए मोबाइल फोन और किताबें बेचे जाते थे.

भाई-बहन दोनों ने बैंक से कर्ज लेकर पैसे जुटाए और अपनी बचत का पैसा भी लगाया, लेकिन उसे दो साल बाद ही बंद करना पड़ा. वे याद करती हैं, “हमने उन दो सालों में करीब 25 लाख रुपए का निवेश किया था.”

उसी समय मां ने सिंधु को शादी करने और घर बसाने के लिए मना लिया. सिंधु ने 2012 में अरुण से शादी की और एक साल बाद उनकी बेटी लाया का जन्म हुआ.

2017 में सिंधु और अरुण ने बेंगलुरु में बिजनेस कोच राजीव तलरेजा के मातहत एक साल का कोर्स किया. दोनों हर सप्ताह के अंत में कक्षा के लिए बेंगलुरु जाते थे.

सिंधु कहती हैं, “इस कोर्स के दौरान मुझे एहसास हुआ कि मुझे अपना खुद का एक ब्रांड लॉन्च करना चाहिए. इसने हमें एक नया व्यवसाय शुरू करने के लिए एक अच्छी बुनियाद उपलब्ध कराई. इसके साथ ही मौजूदा बिजनेस को नया आयाम दिया.”

“तलरेजा ने बहुत सारे कमजोर बिंदुओं को छुआ और हमारे लिए बहुत-सी संभावनाएं खोलीं.”

मोदक्कुपट्टी गांव में अपने उत्पादन संयंत्र में टीम के कुछ सदस्यों के साथ सिंधु.

प्रेसो को बेंगलुरू में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में लॉन्च किया गया. इसमें उन संपर्कों के घरों पर सामान डिलीवर करने की योजना थी, जो उन्होंने कोर्स के दौरान बनाए थे. उन शुरुआती दिनों में उन्हें ऑर्डर वॉट्सएप और फोन कॉल पर मिलते थे.

आज, प्रेसो के पूरे भारत में लगभग 100 डिस्ट्रीब्यूटर्स और रिसेलर हैं. सिंधु कहती हैं, “हमारा लक्ष्य एक लाख लोगों को बिजनेस शुरू करने या उनके बिजनेस में विविधता लाने में मदद करना है.” वर्तमान में उनकी टीम में 15 लोग हैं. वे सभी महिलाएं हैं.

वे अपनी बात समाप्त करते हुए कहती हैं, “ताजा और प्राकृतिक उत्पाद उपलब्ध कराने में लोगों की मदद करना ही हमारा मंत्र है.”

 

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

  • Anjali Agrawal's story

    कोटा सिल्क की जादूगर

    गुरुग्राम की अंजलि अग्रवाल ने राजस्थान के कोटा तक सीमित रहे कोटा डोरिया सिल्क को न केवल वैश्विक पहचान दिलाई, बल्कि इसके बुनकरों को भी काम देकर उनकी आर्थिक स्थिति सुदृढ़ की. आज वे घर से ही केडीएस कंपनी को 1,500 रिसेलर्स के नेटवर्क के जरिए चला रही हैं. उनके देश-दुनिया में 1 लाख से अधिक ग्राहक हैं. 25 हजार रुपए के निवेश से शुरू हुई कंपनी का टर्नओवर अब 4 करोड़ रुपए सालाना है. बता रही हैं उषा प्रसाद
  • Safai Sena story

    पर्यावरण हितैषी उद्ममी

    बिहार से काम की तलाश में आए जय ने दिल्ली की कूड़े-करकट की समस्या में कारोबारी संभावनाएं तलाशीं और 750 रुपए में साइकिल ख़रीद कर निकल गए कूड़ा-करकट और कबाड़ इकट्ठा करने. अब वो जैविक कचरे से खाद बना रहे हैं, तो प्लास्टिक को रिसाइकिल कर पर्यावरण सहेज रहे हैं. आज उनसे 12,000 लोग जुड़े हैं. वो दिल्ली के 20 फ़ीसदी कचरे का निपटान करते हैं. सोफिया दानिश खान आपको बता रही हैं सफाई सेना की सफलता का मंत्र.
  • Just Jute story of Saurav Modi

    ये मोदी ‘जूट करोड़पति’ हैं

    एक वक्त था जब सौरव मोदी के पास लाखों के ऑर्डर थे और उनके सभी कर्मचारी हड़ताल पर चले गए. लेकिन उन्होंने पत्नी की मदद से दोबारा बिज़नेस में नई जान डाली. बेंगलुरु से उषा प्रसाद बता रही हैं सौरव मोदी की कहानी जिन्होंने मेहनत और समझ-बूझ से जूट का करोड़ों का बिज़नेस खड़ा किया.
  • Chandubhai Virani, who started making potato wafers and bacome a 1800 crore group

    विनम्र अरबपति

    चंदूभाई वीरानी ने सिनेमा हॉल के कैंटीन से अपने करियर की शुरुआत की. उस कैंटीन से लेकर करोड़ों की आलू वेफ़र्स कंपनी ‘बालाजी’ की शुरुआत करना और फिर उसे बुलंदियों तक पहुंचाने का सफ़र किसी फ़िल्मी कहानी जैसा है. मासूमा भरमाल ज़रीवाला आपको मिलवा रही हैं एक ऐसे इंसान से जिसने तमाम परेशानियों के सामने कभी हार नहीं मानी.
  • Metamorphose of Nalli silks by a young woman

    सिल्क टाइकून

    पीढ़ियों से चल रहे नल्ली सिल्क के बिज़नेस के बारे में धारणा थी कि स्टोर में सिर्फ़ शादियों की साड़ियां ही मिलती हैं, लेकिन नई पीढ़ी की लावण्या ने युवा महिलाओं को ध्यान में रख नल्ली नेक्स्ट की शुरुआत कर इसे नया मोड़ दे दिया. बेंगलुरु से उषा प्रसाद बता रही हैं नल्ली सिल्क्स के कायापलट की कहानी.