Milky Mist

Friday, 15 October 2021

ख़ुद वेजिटेरियन हैं, पर नॉनवेज भोजन बनाने में इन्हें महारत हासिल है

15-Oct-2021 By उषा प्रसाद
कोयंबटूर

Posted 05 May 2018

कोयंबटूर से 79 किलोमीटर दूर है इरोड जिला. यहां सीनापुरम गांव में अपने घर पर होटल चला रहे एक दंपति की बदौलत गांव को दुनिया के नक्शे पर पहचान मिली है.

होटल का नाम है यूबीएम नम्मा वीटू सापाडु. यहां नॉनवेज (मांसाहारी) भोजन मिलता है जिसे खाने बेंगलुरु और चेन्नई जैसे शहरों से भी लोग आते हैं.

यूबीएम नम्मा वीटू सापाडु में ग्राहकों को भोजन परोसते आर. करुनैवेल और स्वर्णलक्ष्मी. (सभी फ़ोटो – एच.के. राजाशेकर)


होटल की ख़ासियत यहां 500 रुपए (कुछ मामलों में 700 रुपए तक) में मिलने वाला पेटभर भोजन है. इसमें मटन, चिकन, फ़िश, टर्की आदि से बने क़रीब 20 प्रकार के परंपरागत मांसाहारी व्‍यंजन परोसे जाते हैं.

भोजन सात से आठ फ़ीट लंबे केले के पत्ते पर सर्व किया जाता है. एक पत्ते पर चार से पांच लोगों का परिवार साथ बैठकर भोजन कर सकता है.

आप चाहें तो छोटे पत्ते पर भी खाना परोसा जाता है.

होटल के मालिक हैं 60 साल के आर. करुनैवेल और उनकी 53 वर्षीय पत्नी स्वर्णलक्ष्मी.

करुनैवेल बताते हैं, सप्ताह के अंत या छुट्टियों में होटल में क़रीब 150 लोग आते हैं. बाकी दिनों में यह संख्‍या 50 तक रह जाती है.

एक ग्राहक को अपने हाथों से खिलाते करुनैवेल.


लोग अपने पसंदीदा भोजन के लिए 150 से 200 किलोमीटर तक का सफ़र करके आते हैं.

करुनैवेल कहते हैं, होटल से जाते समय लोगों के चेहरों की मुस्कुराहट मुझे और मेहनत करने की ऊर्जा देती है.

विभिन्‍न मांसाहारी खाना जैसे मटन कोलांबू, रथपोरियाल, कुडाल करी, थलाईकरी, लिवर करी तथा ब्रॉयलर चिकन व नाटुकोली (कंट्री) चिकन से बनी डिश, मीनकोलांबू (फ़िश करी) के अलावा यहां चावल, रसम और दही भी उपलब्‍ध रहता है.

करुनैवेल की होटल के बाहर अपनी बारी का इंतज़ार करती भीड़.

रोचक बात यह है कि करुनैवेल और उनकी पत्‍नी दोनों कठोर शाकाहारी हैं.

करुनैवेल बताते हैं, मैं भगवान शिव को मानने वाला हूँ. मैं अंडा तक नहीं खाता. मैं दिन में एक बार शाम पांच बजे शुद्ध शाकाहारी भोजन करता हूं. यह खाना मेरी आठ साल की पोती मुझे खिलाती है. मेरी पत्नी ने आठ साल पहले मांसाहारी खाना छोड़ दिया था.

करुनैवेल और उनकी पत्‍नी भोजन बनाने का आनंद लेते हैं और लोगों को मन भरने तक खिलाते हैं.


...तो फिर यह होटल कैसे शुरू हुआ?

इस सवाल पर करुनैवेल बताते हैं, हमारा परिवार मेहमाननवाज़ी के लिए जाना जाता था. मेरे दादा-दादी इस बात को सुनिश्चित करते थे कि घर आया कोई व्यक्ति भूखा न जाए. मेरे माता-पिता ने भी इस बात का पालन किया और हम भी इसी परंपरा को निभा रहे हैं.

 “हालांकि हमारा परिवार आर्थिक रूप से संपन्न था, लेकिन हम लोगों को मुफ़्त खाना नहीं खिला सकते थे क्योंकि मांसाहारी भोजन महंगा पड़ता था और इतनी बड़ी संख्या में लोगों को खाना खिलाना संभव नहीं था.

जब करुनैवेल युवा थे तो वो घर में कई तरह का स्‍वादिष्‍ट खाना खाकर बड़े हुए.

वो बताते हैं, स्वाद और प्रामाणिकता ऐसी बातें हैं, जिससे हम समझौता नहीं कर सकते. प्रत्‍येक मांसाहारी डिश की रेसिपी में थोड़े बदलाव किए गए. ये हमारे बुज़ुर्गों की भेंट है.

किचन में भोजन गर्म करतीं स्‍वर्णलक्ष्‍मी.


साल 1992-93 में करुनैवेल के परिवार ने अपने गांव के आराघर में एक कैंटीन से शुरुआत की. छह साल बाद इसे उन्होंने अपने घर से आगे बढ़ाने का फ़ैसला किया.

करुनैवेल बताते हैं, चूंकि हमारा घर मुख्य सड़क पर है, इसलिए वहां से गुज़रने वाले सरकारी अधिकारी भोजन करने के लिए रुक जाते थे. धीरे-धीरे लोग हमारे बारे में जानने लगे और आने लगे.

पति-पत्नी ख़ुद ही मीट और मसाले चुनते हैं. करुनैवेल मीट की गुणवत्‍ता, मछली आदि की जांच करते हैं और पत्‍नी को बताते हैं कि मसाला पेस्ट कैसे बनाया जाए.

वो कहते हैं, खाना पूरी तरह मेरी पत्नी बनाती है. इस तरह हम खाने की गुणवत्‍ता पर बेहतर नियंत्रण रख पाते हैं.

होटल में स्‍वादिष्‍ट भोजन का इंतज़ार करता परिवार.


हमारा मक़सद है कि लोग यहां घर की तरह महसूस करें और अपने परिवार के साथ मिलकर एक पत्ते पर खाना खाएं. जो लोग एक पत्ते पर खाना खाने से हिचकते हैं, उन्हें हम अलग-अलग छोटे पत्तों पर खाना सर्व करते हैं.

संयोगवश अगर आप शाकाहारी हैं और यूबीएम के सामने से गुज़रते हैं, तो चिंता की बात नहीं है.

करुनैवेल कहते हैं, लगभग रोज़ ही पांच लोगों के लिए पर्याप्‍त शाकाहारी भोजन उपलब्‍ध रहता है. यहां आने वाला कभी बिना खाए नहीं जाता.

होटल के सामने का नज़ारा.


करुनैवेल कहते हैं, “मेरी मेहनत का पुरस्‍कार यही है कि यूबीएम नम्मा वीटू सापाडु हमारे स्‍थायी ग्राहकों के बीच जाना-माना नाम बन गया है.”


 

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

  • Vikram Mehta's story

    दूसरों के सपने सच करने का जुनून

    मुंबई के विक्रम मेहता ने कॉलेज के दिनों में दोस्तों की खातिर अपना वजन घटाया. पढ़ाई पूरी कर इवेंट आयोजित करने लगे. अनुभव बढ़ा तो पहले पार्टनरशिप में इवेंट कंपनी खोली. फिर खुद के बलबूते इवेंट कराने लगे. दूसरों के सपने सच करने के महारथी विक्रम अब तक दुनिया के कई देशों और देश के कई शहरों में डेस्टिनेशन वेडिंग करवा चुके हैं. कंपनी का सालाना रेवेन्यू 2 करोड़ रुपए तक पहुंच गया है.
  • Mandya's organic farmer

    जैविक खेती ही खुशहाली

    मधु चंदन सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में अमेरिका में मोटी सैलरी पा रहे थे. खुद की कंपनी भी शुरू कर चुके थे, लेकिन कर्नाटक के मांड्या जिले में किसानों की आत्महत्याओं ने उन्हें झकझोर दिया और वे देश लौट आए. यहां किसानों को जैविक खेती सिखाने के लिए खुद किसान बन गए. किसानों को जोड़कर सहकारी समिति बनाई और जैविक उत्पाद बेचने के लिए विशाल स्टोर भी खोले. मधु चंदन का संघर्ष बता रहे हैं बिलाल खान
  • Success story of man who sold saris in streets and became crorepati

    ममता बनर्जी भी इनकी साड़ियों की मुरीद

    बीरेन कुमार बसक अपने कंधों पर गट्ठर उठाए कोलकाता की गलियों में घर-घर जाकर साड़ियां बेचा करते थे. आज वो साड़ियों के सफल कारोबारी हैं, उनके ग्राहकों की सूची में कई बड़ी हस्तियां भी हैं और उनका सालाना कारोबार 50 करोड़ रुपए का आंकड़ा पार कर चुका है. जी सिंह के शब्दों में पढ़िए इनकी सफलता की कहानी.
  • Match fixing story

    जोड़ी जमाने वाली जोड़ीदार

    देश में मैरिज ब्यूरो के साथ आने वाली समस्याओं को देखते हुए दिल्ली की दो सहेलियों मिशी मेहता सूद और तान्या मल्होत्रा सोंधी ने व्यक्तिगत मैट्रिमोनियल वेबसाइट मैचमी लॉन्च की. लोगों ने इसे हाथोहाथ लिया. वे अब तक करीब 100 शादियां करवा चुकी हैं. कंपनी का टर्नओवर पांच साल में 1 करोड़ रुपए तक पहुंच गया है. बता रही हैं सोफिया दानिश खान
  • The Tea Kings

    ये हैं चेन्नई के चाय किंग्स

    चेन्नई के दो युवाओं ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई, फिर आईटी इंडस्ट्री में नौकरी, शादी और जीवन में सेटल हो जाने की भेड़ चाल से हटकर चाय की फ्लैवर्ड चुस्कियों को अपना बिजनेस बनाया. आज वे 17 आउटलेट के जरिये चेन्नई में 7.4 करोड़ रुपए की चाय बेच रहे हैं. यह इतना आसान नहीं था. इसके लिए दोनों ने बहुत मेहनत की.