Saturday, 15 May 2021

इस युवा ने स्टोरेज रूम में शुरू की कंपनी, सात साल में टर्नओवर पहुंचाया 18 करोड़ रुपए

15-May-2021 By गुरविंदर सिंह
बेंगलुरु

Posted 01 Sep 2018

बंगाल के एक छोटे से गांव के निवासी सुमन हलदर हमेशा से कुछ बड़ा करना चाहते थे. वो अपने सपनों पर भरोसा करते थे. अपनी मध्‍यमवर्गीय पृ‍ष्‍ठभूमि और सामान्‍य स्‍कूल में पढ़ाई के बावजूद 37 वर्षीय इस युवा ने साबित कर दिखाया है कि यदि कोई व्‍यक्ति अपना लक्ष्‍य तय कर ले तो कोई बाधा उसके रास्‍ते में नहीं आ सकती.

अपनी धारणा को साबित करने के लिए सुमन के पास कुछ नहीं था और वो ख़ुद भी कुछ नहीं थे. लेकिन उन्‍होंने अपने दृढ़ निश्‍चय के बलबूते यह कर दिखाया और शीर्ष पर जा पहुंचे.

सुमन हलदर ने बेंगलुरु में चार कर्मचारियों के साथ 50 वर्गफुट जगह में बनाए गए ऑफिस से फोइवे की शुरुआत की थी. आज, वो 400 लोगों को रोज़गार दिया है. कंपनी के कोलकाता और रूस में भी ऑफिस हैं. (सभी फ़ोटो – विशेष व्‍यवस्‍था से)

सुमन ने अपनी आईटी सर्विसज़ मैनेजमेंट फर्म फोइवे (Fusion of Intelligence with Excellence) इन्‍फो ग्‍लोबल सॉल्‍यूशंस एलएलपी की शुरुआत बेंगलुरु में 50 वर्गफुट जगह से वर्ष 2010 में की थी. तब उनके पास मात्र तीन पुराने कंप्‍यूटर, एक राउटर, एक सेल फ़ोन और कुछ फर्नीचर था.

उन्‍होंने अपनी बचत से 60,000 रुपए बिज़नेस में लगाए और चार लोगों के साथ गंदे से स्‍टोरेज रूम से की.

सुमन हंसते हुए कहते हैं, ‘‘ऑफिस के लिए जगह लेने में समर्थ नहीं था. मैंने स्‍टोरेज रूम किराए पर ले लिया क्‍योंकि कोई भी उसे लेने के लिए इच्‍छुक नहीं था.’’

आज, फ़ोइवे बेंगलुरु की सीमाओं से आगे निकल चुकी है. कंपनी के कोलकाता के साथ-साथ रूस में भी ऑफिस हैं और इनमें 400 लोग काम करते हैं. वर्ष 2017-18 में कंपनी का टर्नओवर 18 करोड़ रुपए रहा.

फ़ोइवे ने आईटी सर्विसेज़ मैनेजमेंट, कंटेंट मॉडरेशन और कस्‍टमर सपोर्ट के तौर पर शुरुआत की थी.

सुमन कहते हैं, ‘‘हम प्रतिष्ठित ब्रैंड की वेबसाइट पर यूज़र द्वारा पोस्‍ट किए गए संदेशों को टेक्‍स्‍ट, इमेज, वीडियो, रिव्‍यूज़ और फ़ीडबैक के रूप में मोडिफाई करते हैं.’’

वो कहते हैं, ‘‘जब यूज़र द्वारा जनरेट कंटेंट निपुणता से नियंत्रित किया जाता है, तो आपकी ऑनलाइन मौजूदगी अधिक विश्‍वसनीय हो जाती है. कंटेंट मॉडरेशन का हमारा काम दिन-रात लगातार चलता रहता है और हम यह सुनिश्चित करते हैं कि जब भी यूज़र किसी ब्रैंड की वेबसाइट पर जाए तो उसे उपयुक्‍त कंटेंट मिले.’’

साल 2010 को याद करते हुए सुमन कहते हैं, ‘‘उस वक्‍त पैसे की बहुत तंगी थी. हमें ऑफिस का किराया 800 रुपए चुकाने में भी परेशानी आ रही थी.’’

सुमन की यात्रा कितनी अपवादों से भरी रही है, इसका अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि वो अब दुनियाभर में फैले ऑफिसों का किराया ही क़रीब 1.5 करोड़ रुपए सालाना चुकाते हैं.

10 अगस्‍त 1981 को जन्‍मे सुमन बंगाल के चौबीस परगना जिले के बिस्‍वनाथपुर गांव के रहने वाले हैं. यह गांव कोलकाता से क़रीब 40 किमी दूर है. दो बच्‍चों में वो सबसे बड़े हैं. दोनों मध्‍यमवर्गीय परिवार में पले-बढ़े.

उनके पिता एक किसान थे, जबकि मां गृहिणी थीं.

सुमन कहते हैं, ‘‘हमारे पास जीवनयापन लायक़ ही कमाई होती थी...इसके बावजूद मेरे पिता हमारी पढ़ाई के लिए कुछ बचत कर लेते थे.’’

बेंगलुरु में अपने कुछ कर्मचारियों के साथ सुमन.

उन्‍होंने अपनी स्‍कूली शिक्षा 1998 में बैरकपुर के भोलानंदा नैशनल विद्यालय से पूरी की और बेंगलुरु चले गए, जहां होटल मैनेजमेंट कोर्स के तीन वर्षीय कोर्स के लिए केपीएचआर इंस्‍टीट्यूट में दाखिला ले लिया. उन्‍होंने साथ-साथ विभिन्‍न कंप्‍यूटर कोर्स भी किए.

सुमन कहते हैं, ‘‘तंगी के बावजूद पिता ने मेरे लिए बहुत कुछ किया. उद्ममी बनने के अपने सपने के बावजूद मैं उन पर और अधिक बोझ नहीं बनना चाहता था. इसलिए स्‍नातक की डिग्री के बाद तत्‍काल बाद नौकरी करने लगा.’’

साल 2001 में उन्‍होंने तकनीकी सलाहकार के तौर पर आईटीसी इन्‍फ़ोटेक ज्‍वॉइन की, जहां उनकी मासिक तनख्‍़वाह 7,500 रुपए थी.

सुमन के मुताबिक, ‘‘मैं नौकरी और पढ़ाई साथ-साथ कर रहा था.’’ उन्‍होंने इवनिंग क्‍लास के जरिये साल 2003 में बेंगलुरु के एएमसी कॉलेज से एमबीए किया और बाद में रायपुर की महात्‍मा गांधी ओपन यूनिवर्सिटी से एमसीए की डिग्री ली.

उन्‍होंने वर्ष 2010 तक आईबीएम और यूनिसिस जैसी कंपनियों में काम किया.

सुमन कहते हैं, ‘‘साल 2010 में आखिर मुझे अहसास हुआ कि खुद की कंपनी खोलने का सपना साकार करने का यही सही वक्त है. मैं न केवल कुछ बड़ा करना चाहता था, बल्कि मैं समाज को वापस लौटाने को लेकर भी प्रेरित था- दरअसल, मैं लोगों को नौकरी देना चाहता था.’’

जुलाई 2010 में, सुमन ने फ़ोइवे इन्‍फ़ो ग्‍लोबल सॉल्‍यूशंस एलएलपी का रजिस्‍ट्रेशन करवाया और गंदे से स्‍टोर रूप में काम शुरू कर दिया, जो उनका पहला ऑफिस बना. शुरुआती दिनों में कंटेंट मॉडरेशन की मांग अधिक नहीं थी, क्‍योंकि लोगों को इसकी ज़रूरत महसूस नहीं होती थी. इस तरह सुमन को अच्‍छी शुरुआत करने में थोड़ा वक्‍त लगा.

सुमन की योजना अपना बिज़नेस अमेरिका और यूरोप तक विस्‍तार करने की है.

सुमन बताते हैं, ‘‘ऐसा भी समय रहा, जब मैंने परिवार के जेवरात बेचकर पैसे जुटाए, क्‍योंकि मुझे तनख्‍़वाह और मासिक बिलों के लिए पैसों की आवश्‍यकता होती थी. संतुष्टि की बात सिर्फ़ यह थी कि मेरा परिवार मेरे साथ चट्टान की तरह अडिग रहा.’’

तमाम अवरोधों के बावजूद पहले साल का टर्नओवर 2.9 लाख रुपए रहा.

सुमन की कंपनी वर्तमान में लेवल 1 की कोर कंटेंट मैनेजमेंट कंपनी हैं. अब वे अमेरिका और यूरोप में अपने बिज़नेस को विस्‍तार देने की योजना बना रहे हैं.

सुमन की प्रेरणादायी उद्ममी यात्रा साबित करती है कि आप कहां से आए हैं, यह मायने नहीं रखता. महत्‍वपूर्ण यह है कि आप कहां जा रहे हैं.


Milky Mist
 

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

  • He didn’t get regular salary, so started business and became successful

    मजबूरी में बने उद्यमी

    जब राजीब की कंपनी ने उन्हें दो महीने का वेतन नहीं दिया तो उनके घर में खाने तक की किल्लत हो गई, तब उन्होंने साल 2003 में खुद का बिज़नेस शुरू किया. आज उनकी तीन कंपनियों का कुल टर्नओवर 71 करोड़ रुपए है. बेंगलुरु से उषा प्रसाद की रिपोर्ट.
  • Making crores in paper flowers

    कागज के फूल बने करेंसी

    बेंगलुरु के 53 वर्षीय हरीश क्लोजपेट और उनकी पत्नी रश्मि ने बिजनेस के लिए बचपन में रंग-बिरंगे कागज से बनाए जाने वाले फूलों को चुना. उनके बनाए ये फूल और अन्य क्राफ्ट आयटम भारत सहित दुनियाभर में बेचे जा रहे हैं. यह बिजनेस आज सालाना 64 करोड़ रुपए टर्नओवर वाला है.
  • multi cooking pot story

    सफलता का कूकर

    रांची और मुंबई के दो युवा साथी भले ही अलग-अलग रहें, लेकिन जब चेन्नई में साथ पढ़े तो उद्यमी बन गए. पढ़ाई पूरी कर नौकरी की, लेकिन लॉकडाउन ने मल्टी कूकिंग पॉट लॉन्च करने का आइडिया दिया. महज आठ महीनों में ही 67 लाख रुपए की बिक्री कर चुके हैं. निवेश की गई राशि वापस आ चुकी है और अब कंपनी मुनाफे में है. बता रहे हैं पार्थो बर्मन...
  • Safai Sena story

    पर्यावरण हितैषी उद्ममी

    बिहार से काम की तलाश में आए जय ने दिल्ली की कूड़े-करकट की समस्या में कारोबारी संभावनाएं तलाशीं और 750 रुपए में साइकिल ख़रीद कर निकल गए कूड़ा-करकट और कबाड़ इकट्ठा करने. अब वो जैविक कचरे से खाद बना रहे हैं, तो प्लास्टिक को रिसाइकिल कर पर्यावरण सहेज रहे हैं. आज उनसे 12,000 लोग जुड़े हैं. वो दिल्ली के 20 फ़ीसदी कचरे का निपटान करते हैं. सोफिया दानिश खान आपको बता रही हैं सफाई सेना की सफलता का मंत्र.
  • Apparels Manufacturer Super Success Story

    स्पोर्ट्स वियर के बादशाह

    रोशन बैद की शुरुआत से ही खेल में दिलचस्पी थी. क़रीब दो दशक पहले चार लाख रुपए से उन्होंने अपने बिज़नेस की शुरुआत की. आज उनकी दो कंपनियों का टर्नओवर 240 करोड़ रुपए है. रोशन की सफ़लता की कहानी दिल्ली से सोफ़िया दानिश खान की क़लम से.