Milky Mist

Saturday, 29 January 2022

चल निकला चाय आउटलेट का शगल, इनकी सालाना कमाई 7.4 करोड़ रुपए

29-Jan-2022 By राधिका सुधाकर
चेन्नई

Posted 27 Jun 2019

चेन्‍नई के लोग अब कॉफी नहीं एक कप चाय पीना पसंद करने लगे हैं. इस बात को सच साबित किया है चेन्‍नई शहर के ही दो युवाओं ने. ये दोनों युवा अपना खुद का ब्रांड बनाना चाहते थे. इसी सपने को साकार करने के लिए उन्‍होंने चाय बेचने को बिजनेस के रूप में चुना. चाय की यह फ्लैवर्ड चुस्‍की का विचार चेन्‍नई में इतना सफल रहा है कि वित्‍तीय वर्ष 2018-19 में दोनों युवाओं ने अपने 17 आउटलेट की बदौलत 7.4 करोड़ का कारोबार किया. वह भी चाय किंग्‍स की लॉन्चिंग के महज दो साल बाद.

जहाबर सिद्दिक और बालाजी सदगोपान की सफलता की कहानी साथ-साथ चलती है. दोनों ने पहले आईटी इंडस्‍ट्री में साथ नौकरी की. इसके बाद फ्लैवर्ड चाय की विभिन्‍न रेंज वाले बिजनेस से चेन्‍नई का स्‍वाद बदल दिया. यह परी कथा जैसा लगता है.

जहाबर सिद्दिक (बाएं) और बालाजी सदगोपान ने वर्ष 2016 में चाय की एक दुकान से शुरुआत की थी. अब चाय किंग्‍स 17 आउटलेट में विस्‍तार पा चुका है. (सभी फोटो : विशेष व्‍यवस्‍था से)

चाय किंग्‍स की लॉन्चिंग से पहले दोनों ने दूसरे बिजनेस भी आजमाए. सिद्दिक याद करते हैं, ‘‘जब हमें अहसास हुआ कि चाय की विस्‍तृत रेंज वाला चेन्‍नई में कोई आउटलेट नहीं है, तो हमने यह बिजनेस शुरू करने पर विचार किया.’’ इसके लिए दोनों ने सबसे पहले चाय के इच्‍छुक शहर के सर्वोत्‍कृष्‍ट मीडिल क्‍लास तक पहुंच बनाई.

इंजीनियरिंग की पढ़ाई, फिर आईटी इंडस्‍ट्री में नौकरी, शादी और जीवन में सेटल हो जाना. सिद्दिक और सदगोपान भी इस नीरस और निरर्थक प्रक्रिया से एक के बाद एक गुजरे. लेकिन उन्‍होंने इसके आखिरी हिस्‍से में परिवर्तन कर अपनी जिंदगी बदल ली. जब उनके दोस्‍त टारगेट्स, प्रोजेक्‍ट, बाहरी अवसरों, अप्रैजल और प्रमोशन में व्‍यस्‍त थे, वे आजादी चाहते थे.

सबसे पहले बैंक मैनेजर के बेटे सदगोपान अपने साथी बैंक कैशियर के बेटे सिद्दिक के साथ बिजनेस शुरू करने का विचार लेकर गए. हालांकि सिद्दिक को अपने दोस्‍त के बचपन के सपने पर संदेह था. दरअसल, एक किशोर के रूप में वे अपने पिता को खुद का केबल टीवी का बिजनेस करते और नुकसान उठाते देख चुके थे.

इसके बावजूद जब सामने कुछ कर गुजरने का मौका आया तो सिद्दिक ने रजामंदी जताई और आगे आए. उन्‍होंने वर्ष 2012 में आईटी कंपनी से इस्‍तीफा दिया और जेबीएस वेंचर्स शुरू कर दिया. इस वक्‍त तक सदगोपान कंपनी से नहीं जुड़े थे. जेबीएस वेंचर्स ने कुछ नामी ब्रांड जैसे एक सैलून, एक फास्‍ट फूड चेन और आईटीईएस की फ्रैंचाइजी ली.

इससे पहले सदगोपान, जो अब 42 वर्ष के हो चुके हैं, और सिद्दिक, जो सदगोपान से दो वर्ष छोटे हैं, ने करीब एक डेढ़ दशक आईटी और आईटीईएस इंडस्‍ट्री में बिताया. उस वक्‍त उन्‍होंने विशाल स्टाफ का प्रबंधन किया, जो पूर्व से पश्चिम तक कई देशों में फैले थे.

दोनों दोस्‍त उत्‍तरी चेन्‍नई में मध्‍यम वर्गीय परिवार में बढ़े हुए. दोनों ने अलग-अलग इंजीनियरिंग कॉलेजों से बीई की डिग्री ली. दोनों की पहली मुलाकात वर्ष 2002 में एक ऑफिस में हुई, जब सदगोपान चेन्‍नई स्थित आईटी कंपनी में सिद्दिक की लीडरशिप वाली टीम से जुड़े. दोनों ने सात साल साथ काम किया. दोनों तब भी एक-दूसरे के संपर्क में रहे, जब सिद्दिक ने दूसरी कंपनी जॉइन कर ली.

जब जेबीएस वेंचर बेहतर करने लगा, तो सदगोपान ने भी नौकरी छोड़ दी और पूरी तरह से सिद्दिक से जुड़ गए. इसी बीच दिल्‍ली की एक यात्रा के दौरान अपना खुद का ब्रांड शुरू करने का विचार आया.

चाय किंग्‍स में 150 कर्मचारियों का स्‍टाफ है.

सदगोपान कहते हैं, ‘‘फ्रैंचाइजी के साथ काम करने से हमें अंतर्दृष्टि मिली. बेवरेज शॉप खोलने का विचार सबसे पहले वर्ष 2007 में आया था, जब हम एक कॉफी शॉप के सामने से गुजरते हुए ऐसी ही एक शॉप खोलने का विचार कर रहे थे.’’

इस तरह अक्‍टूबर 2016 में चाय किंग्‍स का जन्‍म हुआ. 25 लाख रुपए के निवेश से किल्‍पौक में 350 वर्गफीट में पहला आउटलेट खुला. यही नहीं, दोनों ने सेंट्रल चेन्‍नई के पॉश इलाकों में एक करोड़ रुपए के निवेश से ऐसे चार आउटलेट खोलने की योजना बनाई. यह सब अगले छह महीनों में खोले जाने थे.

सबकुछ योजना के मुताबिक चल रहा था. इसलिए चाय के एक कप की शुरुआती कीमत 20 रुपए रखी गई. यह कीमत चेन्‍नई की गलियों में चाय के स्‍टॉल पर मिलने वाली चाय से थोड़ी महंगी थी, लेकिन यह कीमत भव्‍य कैफे में मिलने वाली चाय की कीमत से कम थी, जहां लोग आमतौर पर आराम से बैठ कर चाय पीते थे. चाय किंग्‍स ने शहर के चाय के शौकीनों का ध्‍यान खींचा.

चाय किंग्‍स ने चाय का चिरपरिचित स्‍वाद बदलाव दिया था. चाय अब फ्लैवर्ड भी हो चली थी. यह अदरक से लेकर गुड़हर और हैदराबादी सुलेमानी से लेकर केरला दम के स्‍वाद में मिलने लगी. हर्बल चाय के भी विकल्‍प मौजूद थे.

चाय किंग्‍स पर स्‍नैक्‍स भी परोसे जाने लगे. इनमें नूडल्‍स समोसा से लेकर सैंडविच, कूकीज, मिठाई से लेकर नूडल्‍स और कुछ मिल्‍क शेक भी उपलब्‍ध थे. ये सभी घर बैठे भी बुक किए जा सकते थे और होम डिलिवरी मिल सकती थी. दोनों दोस्‍तों न केवल फूड डिलीवरी एप से जुड़े, बल्कि उन्‍होंने विशेष रूप से बनाए गए कार्डबोर्ड के फ्लास्‍क में गर्म पेय पदार्थ पैक कर भी बेचा.

चेन्‍नई में चाय किंग्‍स का एक आउटलेट. चाय पर चर्चा के लिए बेहतरीन माहौल.

सबकुछ ठीक-ठाक चल रहा था, पहले चार आउटलेट से 7 से 9 लाख रुपए हर महीने आने लगे. चाय के कप की बात करें तो 35,000 कप चाय प्रतिमाह प्रति आउटलेट बेची जा रही थी. इसके बाद दोनों दोस्‍तों ने दक्षिण चेन्‍नई तक विस्‍तार किया. वहां 40 लाख रुपए के निवेश से तीन और आउटलेट खोले गए.

अब रेवेन्‍यू चार आउटलेट से 25 लाख रुपए से बढ़कर 7 आउटलेट से 2.3 करोड़ रुपए तक पहुंच गया. मार्च 2019 तक दोनों ने नौ और आउटलेट खोले. इस तरह उनका टर्नओवर बढ़कर 7.4 करोड़ रुपए हो गया. उनके कर्मचारियों की संख्‍या थी 150. उनका 17वां आउटलेट अप्रैल 2019 में पश्चिम मम्‍बलम में खुला है.

सिद्दिक कहते हैं, ‘‘अप्रैल 2020 के वित्‍तीय वर्ष के अंत तक हम 20 करोड़ रुपए टर्नओवर की उम्‍मीद कर रहे हैं.’’ दोनों ने जेबीएस वेंचर्स को छोड़ दिया है और अपनी फ्रैंचाइजी बेच रहे हैं.

अब उनका फोकस पूरी तरह चाय किंग्‍स पर है. अब उनकी 100 आउटलेट खोलने और वर्ष 2021 तक कई शहरों में मौजूदगी की योजना है. इसमें बेंगलुरु की एक ऐसी ही चेन का अधिग्रहण भी शामिल है.

सदगोपान और सिद्दिक का वित्‍तीय वर्ष 2019-20 में 20 करोड़ रुपए टर्नओवर हासिल करने का लक्ष्‍य है.

सिद्दिक कहते हैं, ‘‘मुझे लगता है चाय के बाजार का हम अब भी केवल एक छोटे हिस्‍से का ही दोहन कर पाए हैं.’’ सिद्दिक अब चाय किंग्‍स के लिए फ्रैंचाइजी देने के प्रस्‍तावों को नकारने लगे हैं. वे कहते हैं, ‘‘हम इन्‍हें खुद चलाने और गुणवत्‍ता बरकरार रखने पर विश्‍वास करते हैं.’’

ऐसा हो भी क्‍यों नहीं, क्‍योंकि दोनों दोस्‍त ही आउटलेट का मैनू तैयार करते हैं और चाय बनाने की प्रक्रिया को विशेषज्ञों की मदद से मानकीकृत रखते हैं. सभी आउटलेट पर उनका स्‍टाफ विभिन्‍न प्रकार की फ्लैवर्ड चाय, अन्‍य स्‍नैक और मिल्‍कशेक बनाने में माहिर है.

दोनों को वर्ष 2018 में 10 आउटलेट शुरू करने के लिए एक फरिश्‍ते निवेशक से 2.1 करोड़ रुपए की फंडिंग मिली है. अब वे अपने नई विस्‍तार योजना के लिए कुछ अन्‍य निवेशकों से बात कर रहे हैं.

नई आयु की फर्स्‍ट जनरेशन के उद्यमी कहते हैं, ‘‘यदि हम इस बिजनेस पर फोकस करें और वर्तमान रफ्तार से ही आगे ले जाएं तो विस्‍तार के लिए पूरी दुनिया सामने है.’’


 

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

  • Udipi boy took south indian taste to north india and make fortune

    उत्तर भारत का डोसा किंग

    13 साल की उम्र में जयराम बानन घर से भागे, 18 रुपए महीने की नौकरी कर मुंबई की कैंटीन में बर्तन धोए, मेहनत के बल पर कैंटीन के मैनेजर बने, दिल्ली आकर डोसा रेस्तरां खोला और फिर कुछ सालों के कड़े परिश्रम के बाद उत्तर भारत के डोसा किंग बन गए. बिलाल हांडू आपकी मुलाक़ात करवा रहे हैं मशहूर ‘सागर रत्ना’, ‘स्वागत’ जैसी होटल चेन के संस्थापक और मालिक जयराम बानन से.
  • Hotelier of North East India

    मणिपुर जैसे इलाके का अग्रणी कारोबारी

    डॉ. थंगजाम धाबाली के 40 करोड़ रुपए के साम्राज्य में एक डायग्नोस्टिक चेन और दो स्टार होटल हैं. इंफाल से रीना नोंगमैथेम मिलवा रही हैं एक ऐसे डॉक्टर से जिन्होंने निम्न मध्यम वर्गीय परिवार में जन्म लिया और जिनके काम ने आम आदमी की ज़िंदगी को छुआ.
  • Vijay Sales story

    विजय सेल्स की अजेय गाथा

    हरियाणा के कैथल गांव के किसान परिवार में जन्मे नानू गुप्ता ने 18 साल की उम्र में घर छोड़ा और मुंबई आ गए ताकि अपनी ज़िंदगी ख़ुद संवार सकें. उन्होंने सिलाई मशीनें, पंखे व ट्रांजिस्टर बेचने से शुरुआत की. आज उनकी फर्म विजय सेल्स के देशभर में 76 स्टोर हैं. कैसे खड़ा हुआ हज़ारों करोड़ का यह बिज़नेस, बता रही हैं मुंबई से वेदिका चौबे.
  • The rich farmer

    विलास की विकास यात्रा

    महाराष्ट्र के नासिक के किसान विलास शिंदे की कहानी देश की किसानों के असल संघर्ष को बयां करती है. नई तकनीकें अपनाकर और बिचौलियों को हटाकर वे फल-सब्जियां उगाने में सह्याद्री फार्म्स के रूप में बड़े उत्पादक बन चुके हैं. आज उनसे 10,000 किसान जुड़े हैं, जिनके पास करीब 25,000 एकड़ जमीन है. वे रोज 1,000 टन फल और सब्जियां पैदा करते हैं. विलास की विकास यात्रा के बारे में बता रहे हैं बिलाल खान
  •  Aravind Arasavilli story

    कंसल्टेंसी में कमाल से करोड़ों की कमाई

    विजयवाड़ा के अरविंद अरासविल्ली अमेरिका में 20 लाख रुपए सालाना वाली नौकरी छोड़कर देश लौट आए. यहां 1 लाख रुपए निवेश कर विदेश में उच्च शिक्षा के लिए जाने वाले छात्रों के लिए कंसल्टेंसी फर्म खोली. 9 साल में वे दो कंपनियों के मालिक बन चुके हैं. दोनों कंपनियों का सालाना टर्नओवर 30 करोड़ रुपए है. 170 लोगों को रोजगार भी दे रहे हैं. अरविंद ने यह कमाल कैसे किया, बता रही हैं सोफिया दानिश खान